Lahar

मै और मेरी तन्हाई .....

28 Posts

375 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4937 postid : 209

एहसास

  • SocialTwist Tell-a-Friend


तुम पास हो एसा महसूस  करता हूँ ,

लगता है जैसे कल ही तो मिले थे !


सुबह – शाम , दिन – रात ,

हर पल कुछ याद आता है !


याद है वो पहली बार Mc D में मिलना ,

बगल में तुम  बैठी होती थी !

तुम्हारे कंधे पर मेरा हाथ ,

मेरे कंधे पर तुम्हारा सर होता था |


तुम प्यार से पूछती थी ,

क्यों चाहते हो मुझे इतना

हम दोनों की किस्मत एक नहीं ,


तुम कही और हो ?

हम कही और है ??

जाना तुम्हे कही और है ?

जाना मुझे कही और है ?

तुम्हे किसी और का होना है ?

मुझे किसी और का होना है ?


बताओ ?? बताओ ना पंकज ?

कुछ तो बोलो पंकज ?

क्यों चाहते हो हमे इतना ,


जब हमारी किस्मत में मिलना ही नहीं !

मेरी आँखों में आंशु , चहरे पर उदासी !


दिल में मायूसी , जुबां पर खामोसी |

और मै धीरे से कहता हूँ !

चुप हो जाओ ( जान  ) |


तुम्हारी काजल भरी आंखे !

वो प्यारी काली कुर्ती ,

जो पहन कर तुम

मुझे मिलने आती थी !


तुम्हारा वो प्यारा एहसास |

बेबस तुम्हारी याद दिलाते है |


और तुम्हरी यादें मुझे ,

कुछ सोचने ही नहीं देती |

आओ कुछ पल साथ जी ले !


आओ कुछ पल साथ मर ले !!

फिर तो पूरी जिंदगी तन्हा ही रहना है |

फिर तुम ना होगी साथ   मेरे ,

पर तुम्हारी यादें तो होंगी |||


मुझे पता है ना मै अच्छा हूँ , ना मेरी कवितायेँ अच्छी होती है !

लेकिन हां मै और मेरी कवितायेँ दोनों सिर्फ तुम्हारे है |

.……….by Lahar

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Alka के द्वारा
March 26, 2013

लहर जी , आपने बहुत ही सुन्दर शब्दों में अपने मन की भावनाओं को अभिव्यक्त किया है | मन को छूती सुन्दर रचना | बधाई मेरी एक रचना …क्या जरुरी है हर रिश्ते को पढियेगा |

yogi sarswat के द्वारा
March 22, 2013

तुम कही और हो ? हम कही और है ?? जाना तुम्हे कही और है ? जाना मुझे कही और है ? तुम्हे किसी और का होना है ? मुझे किसी और का होना है ? बताओ ?? बताओ ना पंकज ? कुछ तो बोलो पंकज ? क्यों चाहते हो हमे इतना , सुन्दर शब्द पिरोये हैं आपने लहर जी

    Lahar के द्वारा
    March 23, 2013

    धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran